Latest
भारत के इस कदम से चीन को लग सकती है मिर्ची!विशाल सिक्का की विदाई 32 हज़ार करोड़ की पड़ी!राहुल गांधी के करीबी आशीष कुलकर्णी ने छोड़ी कांग्रेस, लगाए बड़े आरोपनूह:प्रसिद्ध हास्य कलाकार ख्याली का नि:शुल्क हास्य कार्यक्रम 19 अगस्त कोनगर निगम के ड्राईवरों ने श्रेणी वाईज वेतन देने की मांग को लेकर की हड़तालपुन्हाना: मेवात इंजीनियरिंग कालेज नूंह द्वारा कवि सम्मेलन आयोजितरोहतक:फिजियोथैरेपी विभाग के छात्रों ने फूंका कुलपति का पुतलास्मार्ट सिटी में चार चांद लगायेगी अक्षय जल योजना: सीमा त्रिखारोहतक :संत गोपालदास को रिहा किया जाये और मांगे माने सरकार : जयहिंद इण्डियन बैंक ने 111वें स्थापना दिवस पर किया निशुल्क हैल्थ चैकअप कैम्प का आयोजन
Politics

बागियों की बैठक में केजरीवाल पर सीधा हमला, पार्टी बनाने के दिए संकेत

April 14, 2015 06:13 PM

नई दिल्ली : बैठक में आप नेता प्रशांत भूषण ने केजरीवाल पर पार्टी पर कब्जा करने का आरोप लगाया। उन्होंने अलग पार्टी बनाने के संकेत देते हुए कहा कि पार्टी पर केजरीवाल का कब्जा छुड़ाने के लिए वे कोर्ट या चुनाव आयोग का रुख नहीं करेंगे। योगेंद्र यादव ने भी बैठक में केजरीवाल पर तंज कसते हुए कहा कि लोग इस पार्टी से सेटिंग और दलाली करने के लिए नहीं जुड़े थे। बैठक के दौरान मंच पर मौजूद प्रफेसर आनंद कुमार रो पड़े। बैठक में प्रशांत भूषण ने केजरीवाल पर हमला करते हुए कहा कि आम आदमी पार्टी अरविंद केजरीवाल और उनकी चौकड़ी की नहीं है। लाखों लोगों ने इसे खड़ा किया है। उन्होंने कहा, 'पार्टी के कई लोग यह मानते हैं। वे चाहते हैं कि हम चुनाव आयोग जाकर उनके हाथों से इस पार्टी को मुक्त कराएं। जिस पार्टी को हमने बनाया, कुछ लोगों ने उस पर कब्जा कर लिया।' भूषण ने अलग पार्टी बनाने का संकेत देते हुए कहा कि अगर हम कब्जा छुड़ाने की कोशिश करेंगे तो हमें चुनाव आयोग और कोर्ट में लंबी लड़ाई लड़नी पड़ेगी। भूषण ने कहा कि उन्होंने और उनके साथियों ने पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र और स्वराज की मांग उठाई, जिसके सजा उन्हें पीएसी और राष्ट्रीय कार्यकारिणी से निकालकर दी गई। उन्होंने कहा, 'हमारी मांग थी कि बड़े फैसले पार्टी कार्यकर्ता लें। चुनाव का राज्य की इकाइयों को अधिकार दिया जाए। लेकिन फैसला यह किया गया कि पीएसी को इसका अधिकार दे दिया गया। इसका मतलब यह हुआ कि अकेले संयोजक यह फैसला लेंगे कि किसी राज्य में चुनाव हो या न हो। पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र का यह हाल हो गया है कि इसकी आवाज उठाने वालों को पीएसी और राष्ट्रीय कार्यकारिणी से निकाल दिया गया। आज हमने सुना है कि संवाद के आयोजन पर उन्हें और उनके साथियों को पार्टी से भी निकाल दिया गया है।'

Have something to say? Post your comment
India Kesari
Email : editor@indiakesari.com
Copyright © 2016 India Kesari All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech