Latest
सहारनपुर में फिर भड़की हिंसा, हालात तनावपूर्णचण्ड़ीगढ़ -हरियाणा सरकार ने अधिकारियों के स्थानान्तरण किए आदेश जारी पुन्हाना :मांगों को लेकर सफाई कर्मचारियों ने किया प्रदर्शनपुन्हाना:मील का पत्थर साबित होगा इंजीनियरिंग कॉलेज : रहीशा खान चंडीगढ़: देश में रोजाना 35 किसान कर रहे आत्महत्या:कांग्रेसचंडीगढ़: सरकार के गले की फांस बना छात्राओं का धरनाफिरोजपुर झिरका :व्यापारी से प्रिटिंग प्रैस लगवाने के नाम पर एक लाख लूटेफिरोजपुर झिरका: ITI अनुबंध अनुदेशकों ने किया भूख हडताल का ऐलानफरीदाबाद: 7 लाख रुपए के ट्यूबवैल निर्माण कार्य का किया शुभारंभ पलवल: ज्ञानदीप स्कूल के छात्रों ने बाजी मारी
Politics

जानिए 1 अप्रैल 2015 से क्या महंगा और क्या सस्ता हो जाएगा?

March 31, 2015 03:25 PM

 चिड़िया घर, संग्रहालयों और बाघ अभ्यारण्यों में प्रवेश के टिकट सस्ते हो जाएंगे, जबकि बिजनेस क्लास में विमान यात्रा, म्यूचुअल फंडों व चिटफंड में निवेश महंगा हो जाएगा। वित्त मंत्री अरण जेटली ने सेवाकर को तर्कसंगत बनाने के लिए पिछले महीने कई प्रस्ताव किए। बजट में सेवाकर की दर बढ़ाकर 14 प्रतिशत करने का प्रस्ताव किया है। अभी इसकी प्रभावी दर 12.36 प्रतिशत है। हालांकि सेवाकर की नयी दर संसद द्वारा वित्त विधेयक पारित किए जाने के बाद सरकार द्वारा अधिसूचित की जाने वाली तिथि से लागू होगी। सेवाकर से जुड़े अन्य प्रस्ताव एक अप्रैल, 2015 से प्रभावी हो जाएंगे इनमें चिड़िया घर, संग्रहालयों, राष्ट्रीय उद्यान, वन्यजीव अभ्यारण्य एवं बाघ अभ्यारण्य में प्रवेश जैसी सेवाओं को दी गई कर छूट शामिल है।इसी तरह, जीवन बीमा योजना, वरिष्ठ पेंशन बीमा योजना, एंबुलेंस सेवा, फलों व सब्जियों की खुदरा पैकिंग पर भी कोई सेवाकर नहीं लगेगा। वहीं दूसरी ओर, हवाई यात्रा महंगी हो जाएगी क्योंकि अब टिकट के 60 प्रतिशत मूल्य पर सेवाकर लगेगा जो अभी 40 प्रतिशत मूल्य पर लगता है। ‘ इकोनामी क्लास को छोड़कर अन्य वर्गों टिकट पर सेवाकर के मामले में एबेटमेंट (छूट) का अनुपात घटाया जा रहा है। इस तरह के उच्च श्रेणियों की विमान यात्राओं पर टिकट मूल्य के 60 प्रतिशत पर सेवाकर देय होगा।’ म्यूचुअल फंड के एजेंटों द्वारा दी जाने वाली सेवाओं, लाटरी टिकटों की मार्केटिंग, विभागीय संचालित सार्वजनिक टेलीफोन एवं हवाईअड्डा व अस्पतालों से नि:शुल्क फोन काल्स सेवाकर के दायरे में होंगे। जहां तक चिटफंड के संबंध में, सेवा कर का भुगतान शुल्क, कमीशन या इस तरह की अन्य राशि प्राप्त करने वाले चिटफंड फोरमैन द्वारा किया जाएगा। हालांकि वे सेनवैट क्रेडिट के लिए दावा करने के पात्र होंगे। सेवाकर को तर्कसंगत बनाए जाने के तहत ऐसी निर्माण सेवाएं एक अप्रैल से सेवाकर से मुक्त होंगी, बशर्ते ये निर्माण सेवाएं ऐतिहासिक स्मारकों, सिंचाई के काम, जलापूर्ति एवं सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट के संबंध में सरकार को उपलब्ध कराई जा रही हों। किसी हवाई अड्डे या बंदरगाह से संबंधित मूल कार्यों का निर्माण, उन्हें खड़ा करना और चालू करने या स्थापित करने के काम को सेवा कर से मिली छूट 1 अप्रैल से वापस कर ली गयी है।

लोकगीत और शास्त्रीय संगीत के कलाकारों की सेवा को सेवा कर के दायरे से बाहर रखा गया है बशर्ते उनका भुगतान 1 लाख रुपए से कम हो। रेल से खाद्यों की ढुलाई पर सेवा कर की छूट केवल अनाज के परिवहन तक सीमित रहेगी जिसमें चावल, दालें , आटा , दूध और नमक की ढुलाई सेवा कर से मुक्त होगी। अन्य सामानों की ढुलाई महंगी होगी।

Have something to say? Post your comment
India Kesari
Email : editor@indiakesari.com
Copyright © 2016 India Kesari All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech