Latest
जम्मू कश्मीर: सेना ने 24 घंटे में 10 आतंकियों को किया ढेरचण्डीगढ़ - मुख्यमंत्री ने मीडियाकर्मियों के लिए विभिन्न प्रोत्साहन देने की घोषणाएं कीकरनाल :महिला सुरक्षा एवं कानून व्यवस्था को लेकर cm आवास का किया घेराव पुन्हाना :बिजली निगम ने 210 लोगों को दिया बिजली कनैक्शनगुरूग्राम:खुले में शौच न करने के प्रति लोगों को किया जा रहा जागरूक गुरूग्राम: डॉक्टरों व स्टॉफ का टोटा, कैसे मिले बेहतर इलाज- अभय जैनचंडीगढ़:मध्य प्रदेश में लागू होगी हरियाणा की पुलिस नीतिचंडीगढ़:भाजपा सांसद राजकुमार सैनी जाटलैंड में करेंगे शक्ति प्रदर्शनफरीदाबाद: राष्ट्रपति ओर प्रधानमंत्री को लिखेंगे ईच्छमृत्यु देने का पत्र : कन्डेरापुन्हाना : जिला प्रशासन ही दे रहा भ्रष्ट्राचार को बढ़ावा
Entertainment

Film 'हरामखोर' थोड़ी फनफुल और थोड़ा करती है बोर

January 12, 2017 10:58 AM

मुंबई;फिल्म का नाम: हरामखोर

डायरेक्टर: श्लोक शर्मा

स्टार कास्ट: नवाजुद्दीन सिद्दीकी , श्वेता त्रिपाठी, त्रिमाला अधिकारी, मोहम्मद इरफान

 

अवधि: 1 घंटा 34 मिनट

सर्टिफिकेट: U/A

रेटिंग: 2 स्टार

अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी की फिल्म 'हरामखोर' लगभग तीन साल पहले ही बनकर तैयार थी और सेंसर के साथ साथ कुछ और मामलों की वजह से रिलीज हो पाने में देरी हो रही थी, वैसे फिल्म को कई सारे फिल्म फेस्टिवल्स में दिखाया जा चुका है और नवाजुद्दीन सिद्दीकी को न्यूयॉर्क इंडियन फिल्म फेस्टिवल में इस फिल्म के लिए बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड भी मिला है, फिल्म रिलीज होने को तैयार है, आइए समीक्षा करते हैं.

कहानी
यह कहानी मध्य प्रदेश के छोटे से गांव में बेस्ड है जहं स्कूल टीचर श्याम टेकचंद (नवाजुद्दीन सिद्दीकी) बच्चों को गणित पढ़ाता है. उसकी क्लास में संध्या (श्वेता त्रिपाठी) नाम की 15 साल की लड़की भी पढ़ती है जिस पर श्याम की खास नजर है. स्कूल के बाद कमल, शक्तिमान के साथ-साथ संध्या भी श्याम के घर ट्यूशन पढ़ने जाती है. घर में बीवी के होने के बावजूद श्याम का संबंध नाबालिग संध्या के साथ होता है, वहीं संध्या के घर में भी कुछ भी सही नहीं चलता. और संध्या का सहपाठी कमल भी संध्या को प्यार करने लगता है और उसे प्यार का इजहार करने के लिए कई प्रयास करता है. इस कहानी को एक अलग अंजाम मिलता है जिसे जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी.

कमजोर कड़ियां
फिल्म की एडिटिंग काफी तितर-बितर सी नजर आती है जिसकी वजह से इसे देखते हुए आप कनेक्ट कर पाने में मुश्किल महसूस करते हैं. फिल्म में आपको काफी रॉ और रियल लोकेशन की शूटिंग और कहानी देखने को मिलती है लेकिन इस तरह की फिल्मों को देखने वाली खास ऑडियंस होती है और ज्यादा तादाद तक ये फिल्म नही पहुंच पाती है.

फिल्म के सेंसर होने के बाद इसे देखते वक्त आपको डिस्क्लेमर भी दिखाए जाते हैं तो स्क्रीन के ऊपर अलग तरह का फ्रेम सामने आता है और डिस्टर्ब भी करता है. फिल्म में पिता और बेटी के रिश्तों का ट्रैक कुछ अधूरा सा लगता है, जिसे बेहतर तरीके से लिखा जाता तो फिल्म थोड़ी और दिलचस्प लगती.

 

जानिए आखिर फिल्म को क्यों देख सकते हैं
फिल्म का पटकथा छोटे शहर के स्कूल और वहां हो सकने वाली घटनाओं की तरफ प्रकाश डालती है जो कि आंख खोलने का काम कर सकती है. नवाजुद्दीन सिद्दीकी के साथ-साथ 'मसान' फिल्म की एक्ट्रेस श्वेता त्रिपाठी ने इस फिल्म में भी बेहतरीन अभिनय किया है. कुछ सीन तो काफी दिसचस्प हैं वहीं सह कलाकार आपके चेहरे पर मुस्कान भी लाते हैं. अगर आपको फिल्म फेस्टिवल में दिखाई जाने वाली फिल्में पसंद आती हैं तो इसे जरूर देख सकते हैं. फिल्म में एक ही गाना है जिसे जसलीन रायल ने कम्पोज किया और गाया है.

बॉक्स ऑफिस
फिल्म ऐसे टाइम पर रिलीज हो रही है जहां एक तरफ दंगल पहले से ही हर दिन कम से कम 3-4 करोड़ का औसत बिजनेस कर रही है वहीं दूसरी तरफ 'ओके जानू' और हॉलीवुड फिल्म 'Xxx' भी साथ-साथ रिलीज हो रही है जिसकी वजह से 'हरामखोर' फिल्म का बिजनेस और फुटफाल काफी प्रभावित हो सकता है. वैसे फिल्म की लागत (प्रमोशन संग) बहुत ही कम बताई जा रही है और अगर यह फिल्म मुनाफा कमाती है तो फिल्ममेकर्स का मनोबल रिएलिटी पर बेस्ड फिल्में बनाने के लिए बरकरार रहेगा.

Have something to say? Post your comment
India Kesari
Email : editor@indiakesari.com
Copyright © 2016 India Kesari All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech