Latest
पुन्हाना :बिजली निगम द्वारा जनता दरबार लगाया सोनीपत:ब्रह्मकुमारीज द्वारा मनाया महाशिवरात्रि का महापर्वऑस्ट्रेलिया ने पहले दिन बनाए 256 रन, उमेश ने लिए 4 विकेटमोदी का अखिलेश को जवाब 'जनता के काम के लिए गधे से प्रेरणा लेता हूंBMC Results:शिवसेना बनी सबसे बड़ी पार्टी, BJP का जोरदार प्रदर्शनफरीदाबाद;बडख़ल विधानसभा क्षेत्र में विकास की गति निरंतर जारी:त्रिखाफरीदाबाद; सैक्टर 28 प्रतिनिधिमंडल ने राज्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपाफरीदाबाद;विपुल की शतकीय पारी की बदौलत महादेव देसाई क्रिकेट अकादमी जीतागुरुग्राम;विधायक ने बजट सत्र के लिए दर्जनभर प्रश्न कराए सूचिबद्धफरीदाबाद; दल ने पुलिस कमीशनर से की मुलाकात
Faridabad

निगमायुक्त की नहीं मानते अधिकारी

January 12, 2017 09:41 AM

निगमायुक्त की नहीं मानते अधिकारी
फरीदाबाद। एक ओर नगर निगम कमिश्रर श्रीमती सोनल गोयल शहर की सूरत सुधारने का बीड़ा उठाए हुए हैं तो वहीं दूसरी ओर निगम के कुछ अधिकारी इतने अधिक ढीठ हो चुके हैं कि वह निगमायुक्त को ही ठेंगा दिखाने से बाज नहीं आ रहे हैं। आलम यह है कि निगमायुक्त के आदेशों की भी सरेआम अवेहलना की जा रही है। यही कारण है कि निगमायुक्त द्वारा पत्र जारी कर उक्त अधिकारियों को चेतावनी जारी की गई है कि यदि उन्होंने पुन: आदेशों की अवेहलना की तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
दरअसल, निगमायुक्त द्वारा हर जोन के ज्वाइंट कमिश्रर, असिस्टेंट इंजीनियर्स, जूनियर्स इंजीनियर्स को पत्र के माध्यम से आदेश जारी किए गए थे कि उनके संज्ञान में आया है कि नगर निगम क्षेत्र में बहुत बड़ी संख्या में इनक्रोचमेंट व अवैध निर्माण हो रहे हैं। इसलिए उक्त अधिकारी अपने-अपने एरिया में यह निरीक्षण करें और डेली रिपोर्ट समय-समय पर बनाई जाए और ज्वाइंट कमिश्रर्स की यह जिम्मेवारी होगी कि वे इस प्रकार की अवैध गतिविधियों को रोकने के लिए अधिनस्थ अधिकारियों से रिपोर्ट लें। लेकिन उक्त अधिकारियों के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी। इसलिए निगमायुक्त सोनल गोयल ने 22 दिसम्बर 2016को उक्त अधिकारियों को चेताया कि आदेशों का पालन नहीं किया जा रहा। ऐसे में यदि वे नहीं चेता तो अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। लेकिन

अधिकारियों की ढिठाई देखिए, इसके बावजूद भी अधिकारियों पर कोई असर नहीं हुआ और शहर में अवैध निर्माण व अतिक्रमण बढ़ता जा रहा है। जिसे देखते हुए निगमायुक्त ने पुन: अधिकारियों को पत्र लिखकर चेतावनी दी है कि यदि वे आदेशों की अवेलना करेंगे तो उन पर कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। अब देखना यह है कि निगमायुक्त की इस चेतावनी से अधिकारी सुप्तावस्था से जागृत होते हैं या फिर अपने पुराने ढर्रे पर चलते हुए आदेशेां को ठेंगा दिखाते हैं।

Have something to say? Post your comment
India Kesari
Email : editor@indiakesari.com
Copyright © 2016 India Kesari All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech