Latest
रादौर:मकान की छत ढहने से बाल बाल बचे मकान मालिक रादौर :पानी बढ़ने से बह गया यमुनानदी पर बना अस्थाई पुल, उत्तर प्रदेश से कटा संपर्क लाडवा:महिलाओं ने घरों के आगे गंदगी गिरने के विरोध में किया रोष प्रदर्शन लाडवा:भूख से तड़प-तड़प कर मर रही हैं गौशाला में जीवन दान पाने वाली गाय कुरुक्षेत्र:रक्तदान करने से दूसरों के साथ अपना भी फायदा कुरुक्षेत्र: गो शाला में 10 से 15 गाय मरी बारिश के कारणरादौर:उपचुनाव में कमलेश रानी व गुरमीत ने मारी बाजी रादौर:कृषि विभाग की टीम ने छापा मार 31० बैग यूरिया खाद के किए बरामद बैंक ऑफ बडौदा द्वारा एसएमई दिवस का आयोजनरोहतक:पूर्व मुख्यमंत्री की जीएसटी पर व्यापारियों को बहकाने की योजना नाकाम : अरोड़ा
Gurgaon

सोहना : गौरक्षा दल ने गौधन से भरे टैंपो को पकड़ा

January 11, 2017 04:59 PM

सोहना : सोहना गौरक्षा दल ने बजरंग दल और गौरक्षा के लिए बनी पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स के साथ मिलकर गौधन से भरे एक टाटा-407 टैंपो को पकड़ा है जबकि गौधन से भरे 2 कैंटरों के टायर फटने के बावजूद गौ तस्कर कैंटरों समेत निकल भागे। पकड़े गए टाटा-407 टैंपो में पैर, मुंह बांधकर बड़ी बेरहमी से गौधन को भरकर गौकशी के लिए ले जाया जा रहा था। टाटा-407 टैंपो में सवार गौ तस्कर गौ भक्तों पर पत्थर बरसाते हुए गौधन से भरे टैंपो को छोड़ अपनी जान बचा घने कोहरे और अंधेरे का फायदा उठाकर भागने में कामयाब रहे है। गौधन  से भरे पकड़ में आए टाटा-407 में केबिन के भीतर चालक और परिचालक सीट व पायदान नुकीले पत्थरों से भरे मिले है। साथ ही इस टैंपो पर आगे-पीछे एचआर38वी-3087 नंबर प्लेट लगी है और दोनों तरफ ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ तथा ‘नर हो या नारी-स्कूटर पर एक ही सवारी’, ‘आज हो या कल-शराब पीकर मत चल’ श्लोगन और दोनों ही तरफ कमल के फूल भी छपे हुए है। सोहना गौरक्षा दल को लंबे समय से इस टैंपो के जरिए गौ तस्करी की सूचना मिल रही थी लेकिन यह टैंपो पहले 3 बार गौ भक्तों के हत्थे चढऩे से इसलिए बच गया क्योकि इसमें सवार गौ तस्कर गौ भक्तों से घिरने पर नुकीले पत्थरों और लाल मिर्ची वाला पाउडर उड़ाते हुए भागने में कामयाब हो जाते थे। प्राप्त जानकारी के अनुसार सोहना गौरक्षा दल व बजरंग दल मानेसर वाली टीमों को मुखबिर खास से सूचना हाथ लगी कि एक टाटा-407 टैंपो में झज्जर से बाया पटौदी, तावडू होकर सोहना घाटी वाले रास्ते से टैंपो में हाथ, पैर, मुंह बांधकर गायें वध के लिए ले जाई जा रही है। जिस पर गौरक्षा दल सोहना तथा बजरंग दल मानेसर से जुड़े कार्यकर्ताओं ने सोहना विधानसभा क्षेत्र में ग्रामीणों के सहयोग से पहाड़ ऊपर वाले दर्जनों गांवों और पहाड़ नीचे 8 अलग-अलग स्थानों पर नाके लगा दिए और गौरक्षा के लिए बने पुलिस के स्पेशल दस्ते, सीआईए और पुलिस को भी सूचना से अवगत कराया। कुछ देर बाद जब एक नाके पर गौ रक्षकों की टीम ने सामने से आ रहे एक टाटा-407 टैंपो को आते देख रूकने का संकेत किया तो चालक ने गाड़ी की रफ्तार और तेज कर गौ रक्षकों पर टैंपो चढ़ाने का प्रयास किया लेकिन पहले से मुस्तैद गौ रक्षकों की टीम गौ तस्करों की मंशा भाप गई और टैंपो की चपेट में आने से बाल-बाल बच गई। गौ रक्षकों ने भाग रहे टैंपो का पीछा किया और विभिन्न स्थानों पर नाका लगाने वाले ग्रामीणों और गौ रक्षकों को सूचना दी कि टैंपो उनके लगाए गए कई नाके तोडक़र भाग निकला है। आगे घेराबंदी कर उसे रोका जाए। जिस पर गौ रक्षकों ने और ज्यादा तादाद में ग्रामीणों को बुला लिया और जगह-जगह रास्ते में ग्रामीण और गौ भक्त नाके लगाकर खड़े हो गए। सीआईए और पुलिस की स्पेशल टीम भी टैंपो को पकडऩे के लिए उसके पीछे लग गई। टैंपो चालक ने अपने को एक तरफ पुलिस और दूसरी तरफ गौरक्षकों से घिरा देखा तो वह गौ भक्तों पर पत्थर बरसाते हुए घने कोहरे व धुंध का फायदा उठाकर टैंपो को गांव कंकरखेड़ी में छोड़ घने कोहरे और अंधेरे का फायदा उठाकर भाग निकलने में कामयाब हो गए। सहायक सब इंस्पेक्टर सतबीर सिंह की अगुवाई वाली पुलिस टीम ने घेराबंदी डाल गौ तस्करों को पकडऩे के लिए खेतों में घेराबंदी की लेकिन गौ तस्कर हाथ नही आए। पुलिस  ने टाटा-407 टैंपो को चेक किया तो उसके अंदर से मुंह, पैर बांधे 2 काले बिजार, एक सफेद बैल, गाय, 2 सफेद बछिया, 2 काले बछड़े और एक सफेद बछड़ा मिले, जिनको बाहर निकाल कर तुरंत पशु चिकित्सक को बुलाया गया। पैर बांधकर एक-दूसरे के ऊपर टैंपो में फंसाकर डाले गए गौधन की हालत ज्यादा गंभीर है। गौ रक्षकों का कहना है कि ऐसा प्रतीत होता है, जैसे गौधन को बेहोशी की दवा दी गई है और दवा देने के बाद  टाटा-407 टैंपो में भरकर वध के लिए ले जाया जा रहा था। जिंदा गौधन को नजदीक की एक गौशाला में पुलिस की निगरानी में सुरक्षित पहुंचा दिया गया है। गौधन की हालत बिगड़ती देख पशु चिकित्सक इन गायों के उपचार में लगे है। पुलिस का कहना है कि बरामद टाटा-407 टैंपो के मालिकान व गौ तस्करी में संलिप्त लोगों की पहचान कर भाग निकले गौ तस्करों को पकडऩे के प्रयास तेज कर दिए है। प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि गौ तस्कर गांधीग्राम घासेड़ा के रहने वाले है और घासेड़ा में रहने वाले एक गौ तस्कर ने रोजकामेव थाने के एक गांव में रहने वाले एक गौ तस्कर के साथ मिलकर बेनामी नाम से यह टैंपो बनाया हुआ है, जो गौ तस्करी में प्रयुक्त किया जा रहा है। उन्होने बताया कि भाग निकले अज्ञात गौ तस्करों के खिलाफ भादस की विभिन्न आपराधिक धाराओं के अंतर्गत अभियोग दर्ज किया गया है। गौरक्षा दल कार्यकर्ताओं का कहना है कि क्षेत्र में गौधन चोरी और वध करने वालों का गिरोह सक्रिय है, जो गाय, बैल, बछिया, बछड़ा आदि को चोरी कर उन्हे वध के लिए ले जाकर मोटी कमाई कर रहे है। गौरक्षा दल से जुड़े कार्यकर्ताओं ने तेजी से बढ़ रही गौ तस्करी को लेकर अपनी सक्रियता बढ़ा दी है। यहां पड़ रही कड़ाके की ठंड, घने कोहरे और ठंडी हवाओं को दर किनार कर गौरक्षा दल से जुड़े कार्यकर्ता क्षेत्र में लिंक रोड और गांवों में पूरी-पूरी रात और दिन के वक्त भी ग्रामीणों के सहयोग से नाके लगाते है ताकि पशु तस्करों को पकड़ा जा सके। इसके अलावा गौरक्षा के लिए तैनात पुलिस टास्क फोर्स के साथ गौरक्षा दल कार्यकर्ताओं ने अब एक्सप्रेस हाईवों पर भी पूरी-पूरी रात नाके लगाने शुरू कर दिए है ताकि एक्सप्रेस हाईवे वाले सडक़ मार्ग से निकलने वाली गायों से भरी गाडिय़ों को पकड़ा जा सके। गौ रक्षकों का कहना है कि गौ तस्कर अब गौ तस्करी के लिए नए-नए रास्तों के साथ-साथ नए-नए तरीके इजाद कर रहे है। गौ रक्षकों का कहना है कि देश में पहले भी कई स्थानों पर ऐसे ही कई गाडिय़ां पकड़ी गई है, जिनमें ऊपर आलू, प्याज अथवा किसी अन्य सामान के बोरे और नीचे पैर मुंह बांधकर गाय पकड़ी गई है। पुलिस आयुक्त संदीप खिरवार का कहना है कि पुलिस पहले से ज्यादा मुस्तैद हुई है। किसी को भी पशु तस्करी विशेषकर गौ तस्करी आदि की जानकारी मिले तो वह तत्काल उन्हे अथवा अपने नजदीकी पुलिस चौकी थाने में अवगत कराए ताकि पशु चोरी और तस्करी करने वाले गिरोह को पकड़ा जा सके।
 

Have something to say? Post your comment
India Kesari
Email : editor@indiakesari.com
Copyright © 2016 India Kesari All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech