Latest
सचिन यू आर ग्रेट: दिल रो रहा था, फिर भी शतक ठोक कर दिलाई जीतफरीदाबाद-भीमराव अम्बेडकर एवं संत रविदास की प्रतिमाओं पर मालाएं अर्पण कीफरीदाबाद: विकास के मामले में बदलेगा प्रदेश का स्वरूप : खट्टरसोहना :बिजली समस्या को लेकर किया जोरदार विरोध प्रदर्शनपलवल : मुख्यमंत्री ने प्रदेश में सरकारी भवनों में एलईडी लाईटे लगाने की घोषणा कीचंडीगढ़:पहलवान योगी बने समाज सेवी, टवीट्र पर उठाई समस्याचंडीगढ़:पीएम व सीएम की बैठक पर विरोधियों ने जताई आपत्तिचंडीगढ़:विधानसभा में सरकार को घेरेगी कांग्रेसहथीन: छात्राओं ने की सरकारी कार्यालयों व बैंकों की विजिट फरीदाबाद:मिस और मिसस वोग इंडिया में हरीश चन्द्र आज़ाद को किया सम्मानित
Haryana

हथीन:करोडों से बना बस अडडा बना सफेद हाथी

January 10, 2017 07:44 PM

हथीन:19 नवम्बर 2007 को करोडों रूपये के बजट से बने हथीन के आधुनिक बस अडडे का उदघाटन के पश्चात से ही बस अडडा बसों के संचालन न होने के कारण सफेद हाथी बनकर रह गया है। हालात यह बने हैं कि आधुनिक बस अडडा खेल का मैदान बना हुआ है व असामाजिक तत्वों का अडडा बनकर रह गया है। यहां बस अडडा परिसर में बसें तो नहीं आती परन्तु लोकल क्रिकेट खिलाडी बस अडडा परिसर में क्रिकेट अवश्य खेल रहे हैं। खिलाडियों के चौकों छक्कों से बस अडडे में लगे अधिकांश शीशे टूट फूट चुके हैं। इसके अलावा अन्य सामान भी खराब हो चुका है। असामाजिक तत्वों का भी इसमें जमावडा लगा रहता है। बस अडडा परिसर में भारी गंदगी बनी हुई है। खुला परिसर होने के कारण आम आदमी अपनी नित्य प्रति की दिनचर्या शौच आदि से यहीं आकर निवृत होते हैं। जिससे सरकार की शौच मुक्त प्रदेश को भी फलीता लग रहा है। इस कारण गंदगी लगातार बढती जा रही है। बस अडडा की चारदीवारी को भी बस अडडा के पीछे बनी अवैध कॉलोनी वासियों ने अपने शार्टकर्ट रास्ते के लिए कई स्थानों से तोड दिया है। बस अडडा उदघाटन के समय इस बस अडडा में लगभग 50 हजार रूपये की लागत से हरे पेड लगवाए थे। जोकि अब पूरी तरह सूख चुके हैं। दुर्भागय की बात तो यह है कि जनता द्वारा चुने गए जनप्रतिनिधियों ने भी आज तक इस बस अडडा से बसों के संचालन के कोई ठोस प्रयास नहीं किए। बसों के संचालन न होने के कारण बसें भी इधर उधर खडी होती हैं जिससे सवारियों को बसों के आगे पीछे दौड लगानी पडती हैं। हरियाणा राज्य परिवहन की बसें तो इस रूट पर नाममात्र को है बल्कि सहकारी समीति की बसें भी इस बस अडडा से बनकर नहीं चलती। जो भी बसें हथीन शहर से चलती हैं वे बस अडडा में न जाकर आईटीआई के सामने खडी होकर सवारियां लेकर चलती हैं। इधर उधर खडे होने से एक ओर जहां जाम की स्थिति बन जाती है वहीं दैनिक यात्रियों को विशेषकर वृद्धों, महिलाओं एवं बच्चों तथा मरीजों को भारी परेशानी का सामना करना पडता है। गर्मी, बरसात एवं सर्दी के मौसम में सवारियों को खुलेआसामान के नीचे ही खडे होकर बसों का इंतजार करना पडता है।
क्या कहते हैं विधायक
हथीन के इनेलो विधायक केहर सिंह रावत ने बताया कि मैंने स्वंय विधानसभा में इस मुददे को कई बार रखा है। लेकिन परिवहन मंत्री हैं कि इस तरफ कोई ध्यान ही नहीं देते। उन्होंने बताया कि अब फिर से इस मुददे को विशेष रूप से विधानसभा में उठाउंगा व हथीन के इस बस अडडा से बसों का संचालन कराकर रहूंगा।



Have something to say? Post your comment
India Kesari
Email : editor@indiakesari.com
Copyright © 2016 India Kesari All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech