Latest
सचिन यू आर ग्रेट: दिल रो रहा था, फिर भी शतक ठोक कर दिलाई जीतफरीदाबाद-भीमराव अम्बेडकर एवं संत रविदास की प्रतिमाओं पर मालाएं अर्पण कीफरीदाबाद: विकास के मामले में बदलेगा प्रदेश का स्वरूप : खट्टरसोहना :बिजली समस्या को लेकर किया जोरदार विरोध प्रदर्शनपलवल : मुख्यमंत्री ने प्रदेश में सरकारी भवनों में एलईडी लाईटे लगाने की घोषणा कीचंडीगढ़:पहलवान योगी बने समाज सेवी, टवीट्र पर उठाई समस्याचंडीगढ़:पीएम व सीएम की बैठक पर विरोधियों ने जताई आपत्तिचंडीगढ़:विधानसभा में सरकार को घेरेगी कांग्रेसहथीन: छात्राओं ने की सरकारी कार्यालयों व बैंकों की विजिट फरीदाबाद:मिस और मिसस वोग इंडिया में हरीश चन्द्र आज़ाद को किया सम्मानित
Faridabad

फरीदाबाद: राजा नाहर सिंह को श्रंदाजली दी

January 09, 2017 07:11 PM

फरीदाबाद: पूर्व केन्द्रीय रेल राज्यमंत्री एवं फीजी में भारत के राजपूत रहे अजय सिंह ने आज बल्लभगढ के राजा तथा 1857 के अमर शहीद राजा नाहर एक ऐसा व्यक्तित्व था जिससे पूरा अंग्रेजी साम्राज्य कांपता था। उनकी यही प्रतिभा कारण थी कि राजा नाहर सिंह को इस प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के नायक अंतिम मुगल शासक बाहदुरशाह जफर ने उन स्थानों पर नियुक्त किया हुआ था जहां पर एक विश्वासपात्र राजा की जरुरत थी, उन स्थानों पर राजा नाहर सिंह ने अंग्रेजी हकूमत से लोहा लिया तथा अपने देश की रक्षा की। अजय सिंह आज यहां बल्लभगढ के राजा नाहर सिंह  पार्क में स्थित राजा नाहर सिंह स्मारक पर आयोजित शहीद श्रंदाजलि समारोह में बोल रहे थे। उल्लेखनीय है कि राजा नाहर सिंह को आज ही के दिन दिल्ली के टाउन हाल के सामने चौक पर 1858 में चौक पर फांसी पर लटका दिया गया था। उनकी स्मृति में आयोजित इस समारोह में अजय सिंह ने कहा कि अंग्रेजी शासन की चूलें राजा नाहर सिंह ने ही हिलाईं थी, उन्होंने बताया कि एक समय वह भी था जब बल्लभगढ के इस शेर ने बहादुरशाह जफर की गिरफ्तारी के बाद कुछ समय दिल्ली का शासन चलाया था, उनके अनुसार हमें विशेषकर बल्लभगढ की जनता को इस बात पर गर्व होना चाहिए कि वह एक ऐसे राजा के बसाए शहर के निवासी है।  इस मौके पर बोलते हुए जिला परिषद के चैयरमेन विनोद चौधरी ने कहा कि राजा नाहर सिंह की शहादत देश के लिए एक ऐसा उदारहण थी जिसके बाद पूरे देश में स्वतंत्रता का आंदोलन शुरु हुआ और ऐसे मुकाम पर पहुंचा कि सन 1947 में अंग्रेजों को देश को छोडना पडा। विनोद चौधरी ने कहा कि बल्लभगढ के राजा नाहर ङ्क्षसह का पूरा जीवन एक आदर्श है। उन्होंने इस आयोजन के लिए से सत्यवीर डागर का आभार  व्यक्त करते हुए कहा कि इस तरह के आयोजनों से हमारे समाज व देश को नई दिशा मिलतीं हैं और देश में शहीदों का सम्मान बढता है।  बल्लभगढ के विधायक मूलचंद शर्मा ने कहा कि आज बल्लभगढ के लिए ऐतिहासिक महत्व का दिन है जब यहां के राजा की शहादत को पूरा क्षेत्र नहीं देश नमन कर रहा है। उन्होंने कहा कि नाहर सिंह के दिखाए रास्ते  पर चलना ही उनको सच्ची श्रंदाजली है। इस मौके पर वरिष्ठ कांग्रेसी नेता था प्रगतिशील किसान मंच के अध्यक्ष और इस कार्यक्रम के आयोजक सत्यवीर डागर ने कहा कि राजा नाहर सिंह एक ऐसा नेतृत्व था जिससे वह साम्राज्य डर गया जिसके साम्राज्य में कभी सूरज नहीं डूबता था। उन्होंने बताया कि राजा नाहर सिंह से अंग्रेज इतने भयभीत थे कि उन्होंने उनकी शहादत के बाद इस क्षेत्र से उनके स्मृति चिन्हों को ही उखाडना व समाप्त करने का प्रयास किया लेकिन उसके बाद वावजूद भी वह उनकी हस्ति को मिटाने में सफल नहीं हो पाय। सत्यवीर डागर ने कहा कि आज जो हमने इस मौके पर पुण्य हवन का आयोजन किया है वह इस वात का प्रतीक है कि राजा नाहर सिंह हमारे बीच में आदर्श स्वरुप विराजमान है और आज के यज्ञ के यज्ञमान हैं। सत्यवीर डागर ने कहा कि आज बल्लभगढ मे प्रवेश द्वार का नाम राजा नाहर सिंह के नाम पर रखा गया है जिसका फायदा यह है कि बाहर से आ ने वाला हर व्यक्ति जब इस शहर मे प्रवेश करता है तो उसको यह महसूस होता है कि वह महान हस्ती के शहर में आया है। उन्होंने कहा कि उनका यह प्रयास है कि जल्द ही इस शहर मे राजा नाहर सिंह की एक भव्य प्रतिमा स्थापित की जाए जिसके लिए वह प्रयासरत हैं।  इस मौके पर जिला पार्षद अवतार सिंह सांरग ने कहा कि इस तरह के आयोजनो से देश व समाज को एक नई दिशा मिलती है तथा हमारे बच्चे यह जान पाते हैं कि किस तरह से हमारे पूर्वजों ने अपने जीवन को बलिदान कर हमें आजादी दिलवाई है। इस मौके पर जिला पार्षद मोहन डागर चंदावली, जाट समाज के अध्यक्ष मास्टर मोहन लाल, भगत सिह दलाल, अमर सिंह दलाल, धर्मपाल यादव, ओ पी यादव, प्रेम खटट्टर, अशोक गुप्ता, सब्बरजीत सिंह, धर्मदेव आर्य, दयाचंद यादव, प्रदीप डागर, प्रदेश महिला कांग्रेस कमेटी की उपाध्यक्ष व जिला प्रभारी सीमा जैन, गोपी चंद शर्मा, लखन  वैनीवाल, प्रताप सरपंच, विक्रम सरपंच, बाबू बौहरे जी, नत्थी सरपंच, योगेश सिवाच, डालचंद डागर सहित क्षेत्र की सरदारी मौजूद थी। इस मौके पर हवन से पूर्व सभी ने पुष्प अर्पित कर तथा दो मिनट का मौन रख कर राजा नाहर सिंह को श्रंदाजली दी।

Have something to say? Post your comment
India Kesari
Email : editor@indiakesari.com
Copyright © 2016 India Kesari All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech