Health

साइटिका पेन से जल्‍द छुटकारा दिलाए लहसुन का दूध

January 08, 2017 12:19 PM

इस उपचार से सियाटिक नसों में आई हुई सूजन और दर्द कम होगी और आराम मिलेगा। आज इस आर्टिकल में हम आपको इसके गुणों के बारे में बताएंगे और सिखाएंगे कि आप इसे घर पर कैसे बना सकते हैं।

साइटिका एक ऐसा दर्द है जो अधिकांश लोंगो को हो जाता है। इसमें कमर से ले कर पैर की नसों तक दर्द होता है, जिसे सियाटिक नर्व कहते हैं। कभी कभी तो यह दर्द पैरों तक चला जाता है। साइटिका का दर्द किसी को भी हो सकता है।अच्‍छी बात तो यह है कि इस बीमारी का एक घरेलू उपचार उपलब्‍ध है, जिसकी रेसिपी काफी पुरानी है। साइटिका के दर्द को दूर करने के लिये लहसुन का दूध एक आम उपचार माना गया है। इस उपचार से सियाटिक नसों में आई हुई सूजन और दर्द कम होगी और आराम मिलेगा। आज इस आर्टिकल में हम आपको इसके गुणों के बारे में बताएंगे और सिखाएंगे कि आप इसे घर पर कैसे बना सकते हैं।

साइटिका के दर्द को दूर करने के लिये गार्लिक मिल्‍क पीने का फायदा

  1. लहसुन का दूध एक प्राकृतिक पेय है, जो कई सालों से आंत के परजीवी को मारने तथा वायरल और बैक्टीरियल संक्रमण से लड़ने के लिये इस्तेमाल किया जाता था।  
  2. यह पेय नसों के दर्द में भी आराम दिलाता है क्‍योंकि इसमें भरपूर मात्रा में एंटीऑक्‍सीडेंट और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं।
  3. गार्लिक के दूध में जरुरी पोषण जैसे, विटामिन (A, B1 और C) मिनरल, पॉलीसैक्‍राइड्स, प्रोटाीन, फ्लेवोनॉइड्स और एंजाइम्‍स होते हैं।
  4. इन फायदों से शरीर में बैक्‍टीरिया दृारा हुए असंतुलन से जो सूजन आई हुई होती है, उसका उपचार किया जाता है।

आइये जानते हैं लहसुन का दूध तैयार कैसे किया जाता है : 

लहसुन की बड़ी बड़ी कलियां लें और उसे या तो पीस लें या फिर उसे छोटे छोटे टुकड़ों में काट लें। फिर उसे एक गिलास दूध में उबाल लें। इससे लहसुन का अर्क दूध में मिल जाएगा। आप चाहें तो दूध में थोड़ा सा शहद भी मिला सकते हैं, लेकिन इससे दूध का स्‍वाद नहीं बदलेगा।काफी सारे लोग गाय के दूध का इस्‍तमाल करते हैं। अगर आप को दूध पीने से गैस बनती है या अन्‍य तकलीफ होती है, तो आप चावल, बादाम या सोया मिल्‍क का भी प्रयोग कर सकते हैं।

सामग्री-5 लहसुन की कलियां

  • 1 कप (250 ml) दूध 
  • 2 चम्‍मच (50 g) शहद

बनाने की विधि -सबसे पहले लहसुन को छील कर पीस लें या फिर बारीक काट लें। फिर दूध में लहसुन मिलाएं और 15 मिनट तक पकाएं। 

  1. यदि आप लहसुन को उबालना नहीं चाहते तो, दूध गरम कर के उसमें पिसी लहसुन को मिला दें और 2 घंटे के लिये उसी में रहने दें। 
  2. इससे लहसुन अपना अर्क दूध में छोड देगा।

कैसे पियें-
साइटिका के दर्द से तुरंत राहत चाहिये तो इसे रोज़ एक कप (250 एम एल ) पियें। अगर यह आपके लिये बहुत ज्‍यादा हेा तो, पेय को बांट लें और थोड़ी थोड़ी देर पर पियें। इसे तब तक पियें जब तक कि दर्द से राहत ना मिल जाए।

Have something to say? Post your comment
India Kesari
Email : editor@indiakesari.com
Copyright © 2016 India Kesari All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech