Chandigarh

चंडीगढ़:कांग्रेस व भाजपा एसवाईएल पर कर रही है राजनीति: इनेलो

January 07, 2017 06:34 PM

चंडीगढ़: हरियाणा के लोग बेहद मजबूत व संघर्षशील हैं और अपने अधिकार पाने के लिए बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने में भी पीछे नहीं रहते। सरकार ने अगर २३ फरवरी तक एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने के लिए नहर की खुदाई को शुरू न किया तो इनेलो कार्यकर्ता प्रदेशवासियों को साथ लेकर एसवाईएल की खुदाई अपने स्तर पर करने का काम करेंगे। यह बात इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने शनिवार को सिरसा जिले के ऐलनाबाद व रानिया हलकों के गांव कागदाना, जमाल, पोहडक़ा, बेहरवाला, संतनगर व ओटू में ग्रामीण जनसभाओं को सम्बोधित करते हुए कही। इनेलो नेता ने कांग्रेस व भाजपा पर वोट की राजनीति के लिए प्रदेश के हितों की अनदेखी करने और एसवाईएल के मामले पर दोहरी भाषा बोलने का आरोप लगाया। इनेलो नेता ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बावजूद एसवाईएल का निर्माण न किया जाना न सिर्फ अदालत की अवमानना है बल्कि यह भी दर्शाता है कि वोटों की खातिर कांगे्रस व भाजपा इस मुद्दे पर आंखें मूंदे हुए हैं। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवनरेखा है और इसका निर्माण होने से न सिर्फ हरियाणा की सूखी धरती खुशहाल होगी बल्कि प्रदेश में खुशहाली का एक नया दौर आएगा। उन्होंने कहा कि हरियाणा किसी से कोई खैरात नहीं मांग रहा बल्कि सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार एसवाईएल के माध्यम से अपने हिस्से का पानी मांग रहा है। उन्होंने कहा कि दस साल तक केंद्र व हरियाणा में कांग्रेस की सरकार थी लेकिन एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने के लिए किसी भी कांग्रेसी नेता ने कभी एक शब्द तक नहीं कहा और न ही नहर का निर्माण करने के लिए केंद्र पर दबाव डाला। उन्होंने कहा कि पिछले सवा दो सालों से हरियाणा व केंद्र में जहां भाजपा की सरकारें हैं वहीं पंजाब में भी भाजपा की गठबंधन सरकार है और सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करने की जिम्मेदारी पूरी तरह से केंद्र सरकार पर है।नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि हरियाणा का निर्माण चौधरी देवीलाल ने करवाया था और उन्होंने प्रदेश की खुशहाली का जो सपना देखा था उसे हम टूटते हुए नहीं देख सकते। इनेलो नेता ने कहा कि एसवाईएल के निर्माण के लिए भूमि अधिग्रहण करने हेतु सबसे पहले चौधरी देवीलाल ने ही पंजाब सरकार को बतौर मुख्यमंत्री पैसा भिजवाया था और इसका निर्माण कार्य शुरू हो पाया था। उन्होंने कहा कि दूसरी बार मुख्यमंत्री बनकर चौधरी देवीलाल ने ही तेजी से इस नहर का निर्माण करवाया और ये बात विधानसभा में चौधरी देवीलाल के राजनीतिक विरोधी रहे पूर्व मुख्यमंत्री बंसीलाल ने भी खुले तौर पर स्वीकार की थी और कहा था कि एसवाईएल का सबसे ज्यादा निर्माण चौधरी देवीलाल के कार्यकाल में हुआ और मैं उनका राजनीतिक विरोधी होते हुए भी यह बात स्वीकार करता हूं क्योंकि सच्चाई को झुठलाया नहीं जा सकता। उन्होंने कहा कि एसवाईएल को लेकर चौधरी ओमप्रकाश चौटाला की सरकार ने सर्वोच्च न्यायालय में जोरदार पैरवी की और इसी के चलते सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आया था। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति के दखल के बाद अब एक बार फिर सर्वोच्च न्यायालय ने हरियाणा के पक्ष में फैसला दिया है और इसके बावजूद भाजपा सरकार इसे पूरा करवाने की बजाय इस मुद्दे पर उदासीनता का रवैया अपनाए हुए है। उन्होंने कांग्रेस व भाजपा पर आए दिन बे सिर पैर के बयान देकर किसानों को गुमराह करने का भी आरोप लगाया। चौधरी अभय सिंह चौटाला ने एसवाईएल के निर्माण के लिए शुरू किए गए जलयुद्ध के अंतर्गत लोगों को जागृत करते हुए कहा कि अब यह संघर्ष निर्णायक दौर में पहुंच गया है। इस पर अभी नहीं तो कभी नहीं वाली स्थिति पैदा हो गई है इसीलिए प्रदेशभर से लोगों को ज्यादा से ज्यादा संख्या में २३ फरवरी को हरियाणा-पंजाब सीमा पर स्थित इस्माइलपुर गांव पहुंचकर नहर की खुदाई शुरू करनी चाहिए ताकि हरियाणा की प्यासी धरती को एसवाईएल का पानी मिल सके। उन्होंने मुख्यमंत्री पर हरियाणा के हितों की अनदेखी करने का आरोप लगाते हुए कहा कि सीएम को एक पल भी अपने पद पर बने रहने का कोई नैतिक व लोकतांत्रिक अधिकार नहीं है और उन्हें तुरंत अपने पद से त्याग पत्र दे देना चाहिए। उन्होंने कहा कि जो सीएम एसवाईएल जैसे सबसे महत्वपूर्ण मुद्दे पर प्रधानमंत्री से मिलने के लिए डेढ महीने तक समय न ले पाए तो ऐसे मुख्यमंत्री को अपने पद से तुरंत हट जाना चाहिए। उन्होंने लोगों से हाथ उठवाकर २३ फरवरी को इस्माइलपुर पहुंचने का भी संकल्प करवाया।इस मौके पर सांसद चरणजीत सिंह रोड़ी, जिलाध्यक्ष पदम जैन, विधायक मक्खन लाला सिंगला, बलवान सिंह दौलतपुरिया, रामचंद्र कम्बोज, पूर्व मंत्री भागीराम, कृष्णा फौगाट, कश्मीर सिंह करीवाला, अभय सिंह खोड़, धर्मवीर नैन, सुभाष नैन, राम कुमार, जरनेल सिंह चादी, महेन्द्र बाना, पवन लढ़ा, हरपाल कासनियां, सरपंच नन्द लाल बेनीवाल, सुभाष हंजीरा, मोहन लाल झोरड़, विजय खोड़, डा० विनोद गोदारा, अंजनी लढ़ा, जय सिंह गोदारा, होशियारी खोड़, गौरी शंकर लढ़ा, विनय श्योरण, सावत्री देवी, कमलेश सिधू भी उपस्थित थे।


Have something to say? Post your comment
India Kesari
Email : editor@indiakesari.com
Copyright © 2016 India Kesari All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech