Latest
रवीना टंडन ने अपने को-स्टार को जड़े तीन थप्पड़!सुनील ग्रोवर और किकू शारदा शाथ में करेंगे “डॉ मशहूर गुलाटी कॉमेडी क्लीनिक” शो 7 वजहों से इस दौरे को याद नहीं करना चाहेंगे विराटधर्मशाला टेस्ट: विजय-राहुल ने संभाला मोर्चा, सामने है 300 का लक्ष्यहादसाः जबलपुर की आर्डिनेंस फैक्ट्री में लगी आग बुझाई गईगुजरात: छात्रों के झगड़े से भड़की सांप्रदायिक हिंसा,मौत, छह घायलमन की बात कार्यक्रम के जरिए पीएम नरेंद्र मोदी जनता को करेंगे संबोधितफरीदाबाद: टेकचंद शर्मा के नेतृत्व में हुआ उद्योगमंत्री का भव्य स्वागतपिनगवां:मेवात के इतिहास में सबसे बड़ी रेली आगामी अप्रेल माह में Faridabad:उत्तर प्रदेश के केबीनेट मंत्री का पृथला में जोरदार स्वागत
Gurgaon

सोहना;अवैध कालोनियों को नियमित किये जाने पर सवालियां निशान खडे

January 06, 2017 06:21 PM

सोहना:सोहना नगरपरिषद के अन्तर्गत आने वाली अवैध कालोनियों को नियमित किये जाने पर सवालियां निशान खडे हो गए हैं। परिषद विभाग ने गत दिनों 69 कालोनियों को चिन्हित करके सूची तैयार की थी। किन्तु राजनीतिक गुटबाजी के चलते उक्त कालोनियों के प्रस्ताव को बोर्ड बैठक में मंजूरी नहीं मिल सकी थी। वहीं बताते हैं कि नियमों से परे होने के कारण करीब दो दर्जन अवैध कालोनियों को सूची से निकाल दिया गया हैं। जिससे ऐसी अवैध कालोनियों की कुल संख्या मात्र 45 होने के आसार हैं। उल्लेखनीय हैं कि गत दिनों सरकार के आदेशों को अमलीजामा पहनाते हुए सोहना परिषद विभाग ने कस्बे में स्थापित अवैध कालोनियों का सर्वे कराया था। तथा 69 अवैध कालोनियों को चिन्हित करके सूची तैयार की थी। उक्त सूची को विभाग ने गत दिनों 11 नवम्बर 2016 को आयोजित परिषद बोर्ड की बैठक में मंजूरी के लिए रखा था। किन्तु सूची पर आम सहमति न बनने से उक्त प्रस्ताव को स्थगित कर डाला था तथा सूची जांच के लिए बोर्ड पार्षदों की सब कमेटी गठित कर दी थी। जिसको सात दिनों के भीतर रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा गया था। उक्त सब कमेटी मे पार्षद रेखा खटाना, शायरा, सुनीता, अनिल, कमलेश नन्दा व चेयरपर्सन विभा खटाना को नामित किया था।
मात्र 45 होंगी वैध
नगरपरिषद ने अवैध कालोनियों की लम्बी फहरिस्त को छोटा कर डाला हैं। सूत्र बताते हैं कि विभाग ने 69 की बजाय मात्र 45 अवैध कालोनियों को ही वैध करने के लिए उचित ठहराया हैं। विभाग ने ऐसी कालोनियों की संस्तुति रिपोर्ट भेजने से पूर्व सम्बन्धित विभागों से अनापत्ति प्रमाण पत्र मांगा हैं। जिसमें डी टी पी, वन विभाग, बिजली, भूमि अधिग्रहण, प्रदूषण, तहसील आदि विभाग शामिल हैं।

Have something to say? Post your comment
India Kesari
Email : editor@indiakesari.com
Copyright © 2016 India Kesari All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech