Latest
सचिन यू आर ग्रेट: दिल रो रहा था, फिर भी शतक ठोक कर दिलाई जीतफरीदाबाद-भीमराव अम्बेडकर एवं संत रविदास की प्रतिमाओं पर मालाएं अर्पण कीफरीदाबाद: विकास के मामले में बदलेगा प्रदेश का स्वरूप : खट्टरसोहना :बिजली समस्या को लेकर किया जोरदार विरोध प्रदर्शनपलवल : मुख्यमंत्री ने प्रदेश में सरकारी भवनों में एलईडी लाईटे लगाने की घोषणा कीचंडीगढ़:पहलवान योगी बने समाज सेवी, टवीट्र पर उठाई समस्याचंडीगढ़:पीएम व सीएम की बैठक पर विरोधियों ने जताई आपत्तिचंडीगढ़:विधानसभा में सरकार को घेरेगी कांग्रेसहथीन: छात्राओं ने की सरकारी कार्यालयों व बैंकों की विजिट फरीदाबाद:मिस और मिसस वोग इंडिया में हरीश चन्द्र आज़ाद को किया सम्मानित
Editorial
आतंकी लखवी की रिहाई
April 12, 2015 04:51 PM

संपादकीय/महावीर गोयल, पाकिस्तान की अदिआला जेल से आखिरकार मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड जकीउर रहमान लखवी को रिहा कर दिया गया। लखवी को रिहा किए जाने के तकनीकी और विधिक पक्षों से अधिक रोचक वे विडंबनाएं हैं जिनमें उसे रिहा किया गया है। दिसंबर २०१४ में पेशावर में स्कूल पर मानवता को शर्मसार करने वाले आतंकी हमले के महज दो दिनों बाद लखवी को जमानत दी गईथी, तब पाकिस्तान में आतंकवाद के खिलाफ भावनाएं उफान पर थीं और इस दौरान चार बार उसे मेंटेनेंस ऑफ पब्लिक ऑडर एक्ट के तहत गिरफ्तार किया जाता रहा। 

आफत के बाद राहत
April 10, 2015 02:59 PM

संपादकीय/महावीर गोयल! बिगड़े मौसम ने रबी की फसल को कितनी क्षति पहुंचायी है, खेतों में गिरे पड़े गेहूं के पौधे इसे बयां करने के लिए काफी हैं। गनीमत है कि अन्नदाता के इस नुकसान को केंद्र सरकार ने समझा है। खेतों में खड़ी पकी फसल पर कुदरत ने इस बार जो कहर बरपाया सचमुच वह बहुत बड़ा नुकसान है। किसान इसे देखकर दुखी होने के सिवाय क्या कर सकता है। कुछ किसान तो इस सदमे से उबर नहीं पाए और हृदयाघात ने उनकी जान ले ली। कहीं-कहीं आर्थिक संकट से जूझते किसानों के आत्महत्या करने की भी घटनाएं हुईं। राज्य सरकार ने  किसानों की क्षति के सर्वे करने के निर्देश दिएए लेकिन नौकरशाही अपने हिसाब से चली और क्षति का सही आकलन नहीं किया। गनीमत है कि केंद्र सरकार ने इसका संज्ञान ले लिया है। उसने न केवल किसानों को मुआवजे में मिलने वाली राशि में डेढ़ गुना बढ़ोत्तरी की है बल्कि यह भी ऐलान किया है कि जिन किसानों की 33 प्रतिशत फसल का भी नुकसान हुआ है, उसे भी केंद्र सरकार मुआवजा देगी। 

केजरीवाल की चुनौतियां
February 13, 2015 02:33 PM

 संपादकीय/महावीर गोयल, अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली विधान सभा चुनाव में जो धमाकेदार नतीजे दिए हैं, उनकी उम्मीद शायद केजरीवाल को भी नहीं रही होगी। बस शपथ लेने की औपचारिकता बाकी है। इसी के साथ शुरू होगा उनका नया सियासी सफर। माना जा सकता है कि जबर्दस्त बहुमत के चलते केजरीवाल के समक्ष कोई कठिनाई नहीं आएगा, लेकिन ऐसा ही होगा, इस बारे में अभी गारंटी के साथ कुछ नहीं कहा जा सकता। सच तो यह है कि केजरीवाल की नई पारी जितनी मुश्किलों से भरी होगी, उसका अनुमान शायद वे भी नहीं लगा सकते। अगर एक-दो राज्यों के चुनाव नतीजों को छोड़ दें ज्यादातर चुनाव नतीजे ऐसे साबित हुए हैं, जिनमें किसी एक पार्टी को उम्मीद से ज्यादा सीटें मिली हैं। उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में सपा, लोकसभा आम चुनाव में भाजपा और अब दिल्ली विधान सभा चुनाव में आम आदमी की पार्टी, सभी को आशा से कहीं ज्यादा सीटें मिली हैं। जहां तक बात अरविंद केजरीवाल की है, चुनाव में भले ही उन्हें जबर्दस्त बहुमत मिला हो, लेकिन सांगठनिक स्तर पर उनकी पार्टी के ढांचे को बहुत मजबूत नहीं माना जा सकता। केजरीवाल पहले भी 49 दिन तक दिल्ली की सत्ता संभाल चुके हैं। लेकिन तब स्थितियां कुछ और थीं। उस समय उन्होंने कांग्रेस से समर्थन हासिल कर सत्ता हासिल की थी। पहली बार पार्टी बनाकर वे चुनाव लड़े थे। सियासत की दुश्वारियों का उन्हें बहुत ज्यादा तजुर्बा भी हासिल नहीं था

दिल्ली में चुनावी जंग
February 06, 2015 02:29 PM

संपादकीय/महावीर गोयल, दिल्ली विधान सभा की चुनावी जंग अब तकरीबन चरम पर पहुंच चुकी है। आम आदमी पार्टी ने खुद ही सर्वे करा डाला और अपने पक्ष में 51 सीटें घोषित कर दीं। आप का दावा कितना सही है, इसका फैसला दिल्ली के मतदाता करेंगे। यूं तो मीडिया के विभिन्न चुनाव पूर्व सर्वे में भी भाजपा की तुलना में आप को ज्यादा सीटें मिलने का दावा किया गया है। मीडिया के ये सर्वे सच हो भी सकते हैं और नहीं भी। इस बार दिल्ली विधान सभा चुनाव में आप ने मीडिया पर किसी तरह का निशाना नहीं साधा, लेकिन सर्वे को और मजबूत साबित करने के लिए खुद ही सर्वे कर डाला। अगर इस सर्वे को सही माना जाए तो आप को विधानसभा चुनाव में 51 सीटें मिलेंगी। भाजपा को 15 और कांग्रेस को सिर्फ चार सीटें मिलेंगी। 

दिल जीत गए ओबामा
January 29, 2015 03:07 PM

संपादकीय/महावीर गोयल, लोग आते हैं और चले जाते हैं, लेकिन कुछ लोग ऐसे होते हैं जो अपने पीछे छाप छोड़ जाते हैं। संभवत:  बराक ओबामा ऐसे ही हैं। उनका विदाई भाषण भारत के इतिहास में दर्ज रहेगा। ओबामा इस बार भारतीय गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में आए थे। उनकी यात्रा के समय तयशुदा असैन्य परमाणु करार समेत जो अन्य समझौते होने थे, वे तो हुए ही, गणतंत्र दिवस समारोह में निकली झांकियों और सैन्य बलों के प्रदर्शन ने भी ओबामा को काफी हद तक प्रभावित किया। वे भारत की आवभगत और साज-सज्जा से कितने प्रभावित हुए, यह सीरीफोर्ट आडिटोरियम में दिए उनके विदाई भाषण में झलकता है। मसलन, अपने कार्यकाल में दूसरी बार भारत आने वाले वे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति हैं, गणतंत्र दिवस समारोह में शामिल होने वाले वे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति हैं, इस सब पर उन्होंने न केवल फख्र जताया, बल्कि यह भी कहा कि यह सिलसिला कायम रहेगा। उन्होंने कहा कि दोनों देश एक-दूसरे का भरपूर सहयोग कर सकते हैं। पहली बार ओबामा ने अपने संबोधनों के जरिए भारत से जुडऩे और दिल को छूने की कोशिश की है। उन्होंने यहां के मूल्यों, भाषाई-जातिगत-धार्मिक-क्षेत्रीय विविधता, गरीबी, संघर्ष का इस तरह जिक्र किया जैसे लगा कि उन्होंने भारत को आत्मसात कर लिया है। यह दोनों देशों के बदलते रिश्तों की दास्तान ही है। उनके भाषण की दो प्रमुख बातें रहीं। 

बिहार में बम विस्फोट
January 25, 2015 03:06 PM
 संपादकीय/महावीर गोयल, बिहार के आरा न्यायालय परिसर में विस्फोट को सामान्य नहीं माना जा सकता, लेकिन बिहार के लिए यह कोई नई बात नहीं है। सवाल यह है कि इस विस्फोट का मकसद क्या था? बिहार में पहले भी अदालत परिसर में बम विस्फोट की कई घटनाएं हो चुकी हैं। लेकिन इस विस्फोट की खास बात यह थी कि बम लाने वाली महिला और एक विचाराधीन कैदी की मौत हो गई। विस्फोट में आठ-दस लोग घायल हो गए। इनमें सिपाही अमित कुमार की अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। कुछ घायलों की हालत अभी नाजुक है। जैसा कि हमेशा होता है विस्फोट की घटना के बाद सुरक्षा बढ़ा दी गई। छानबीन शुरू कर दी गई है। फिलहाल पहली नजर में इसे आतंकवादी मामला नहीं माना जा रहा है, लेकिन विस्फोट के दौरान मची अफरा-तफरी में दो कैदियों का फरार हो जाना, जरूर मामले को गंभीर बना रहा है। सवाल यह है कि क्या बम विस्फोट में मारी गई महिला का उद्देश्य कैदियों को मुक्त कराना था, जिसके लिए वह थैले में बम लेकर आई थी।
श्रीनिवासन को झटका
January 24, 2015 03:16 PM

संपादकीय/महावीर गोयल, बीसीसीआई अध्यक्ष रहे एन श्रीनिवासन को पहले ही आईपीएल स्पाट फिक्सिंग में दोषी माना जा रहा था। अब सुप्रीम कोर्ट ने भी इस पर मोहर लगा दी है। उनके लिए अब राह और ज्यादा कठिन हो गर्इ है। आईपीएल स्पाट फिक्सिंग का जब खुलासा हुआ था, तब इसे लेकर काफी शोरगुल हुआ। बाद में इसकी जांच पड़ताल हुई और मामले को सुप्रीम कोर्ट के हवाले कर दिया गया। कोर्ट ने इस पर सुनवाई करते हुए इसके लिए श्रीनिवासन को भी दोषी माना है, हालांकि कोर्ट ने यह भी कहा कि मामले पर परदा डालने का आरोप श्रीनिवासन पर साबित नहीं होता। कोर्ट ने बीसीसीआई अध्यक्ष का चुनाव छह माह के भीतर कराने का निर्देश देते हुए कहा कि श्रीनिवासन यह चुनाव नहीं लड़ सकते। सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान रायल्स के मालिक राज कुंद्रा और श्रीनिवासन के दामाद गुरुनाथ मयप्पन को सट्टेबाजी का दोषी पा

 
 
 
 
 
India Kesari
Email : editor@indiakesari.com
Copyright © 2016 India Kesari All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech